Republic Day

हमारे मनीषियों और समाज षास्त्रियों ने अथक परिश्रम से इस विविधतापूर्ण तथा विस्तृत राष्ट्र हेतु  संविधान का निर्माण किया, जो २६ जनवरी १९५॰ को राष्ट्र को समर्पित किया गया। आज सम्पूर्ण राष्ट्र लोकतंत्र के इसी महापर्व की ७॰ वीं वर्षगाँठ मना रहा है। गणतंत्र के इस पर्व को दिल्ली पब्लिक स्कूल में माननीया प्राचार्याजी के नेतृत्व में अत्यंत ही उमंग तथा उत्साह के साथ मनाया गया।

सम्पूर्ण विद्यालय देशप्रेम तथा राष्ट्रीयता के रंगों में रंगा  हुआ था। प्रांगण तिरंगे तथा फूलों से सुशोभित हो रहा था। गणतंत्र दिवस के सुनहरे प्रभात का वंदन प्रभात फेरी के जयघोश द्वारा किया गया। बच्चे-बच्चे का उत्साह दर्शानिये था। उषाकाल में एक ओर जहाँ सूर्य अपनी सुनहरी किरणों से इस पुण्य नगरी को वासंती रंग में रंग रहा था, वहीं दूसरी ओर डी.पी.एस के विद्यार्थी, जनसमूह को मातृभूमि के गौरवगान से जागृत कर रहे थे। समस्त वातावरण ‘भारत माता की जय’ के नारों से गुँजायमान हो रहा था। विद्यालय का संगीत विभाग एवं बाल समूह विभिन्न वाद्यों पर देशगान के सुंदर गीत बजा रहा था।

सांस्कृतिक कार्यक्रम का शुभारंभ कर्मचारीवृंद के परेड द्वारा हुआ। इसके पष्चात् बालकों ने अंगे्रज़ी एवं संस्कृत में भाषण दे कर सभी को मंत्रमुग्ध कर दिया। देशभक्ति के भावों से ओतप्रोत स्वरचित कविता पाठ एवं देशभक्ति गीतों की प्रस्तुति भी हुई। विद्यालय के सुदृढ़ आधार के रुप में हमारे सहायक कर्मचारीवृंद द्वारा समूहगान भी प्रस्तुत किया गया।

प्राचार्या जी ने उपस्थित जन समूह को सम्बोधित करते हुए विद्यार्थियों कोे देश के समक्ष उपस्थित समस्याओं से जूझने हेतु ललकारा। प्रधानाचार्या महोदया ने विद्यार्थियों को सतत निर्माण कार्य करने और भारत के सुंदर और प्रबुद्ध नागरिक बनने के लिए प्रोत्साहित किया। जम्मू के उरी हमले में वीरता पुरस्कार प्राप्त करने वाले सौम्यदीप एवं हीमाप्रिय का उल्लेख किया। मौलिक अधिकारों एवं कर्तव्यों के पालन हेतु विद्यार्थियों को प्रेरित किया। देशप्रेम के साथ एक-दूसरे का सहयोग करने तथा निस्वार्थ सेवा के लिए आह्वान किया। शहीदों के बलिदानों को सदैव स्मरण करते हुए उनके प्रशस्त मार्ग पर चलने पर भी ज़ोर दिया। ऐतिहासिक दिवस को एक ऐतिहासिक रुप प्रदान किया गया।

Added on: 26 Jan 2019

Published by: School Admin